हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Wednesday, October 30, 2013

तुम मेरे बुद्दु ,मैं हूँ तेरी पागल

जब बिन बोले तुम जाते हो
हमें याद बहुत तुम आते हो|

तुम मेरे बुद्दु ,मैं हूँ तेरी पागल
मैं बहती नदी तुम उड़ते बादल|

कैसे मिलन हो बोलो मेरा तेरा
तुम जब बरसो तो चलना हो मेरा|

जब मैं सूखुं तुम पानी से भर जाओ
पानी बरसाकर ,तर मोहे कर जाओ|

कैसे है हमने प्यार किया
चातक के जैसे तरसे जिया||
..............