हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Saturday, February 28, 2015

किताबे जिंदगी खोलूँ पलों में मुस्कराना तुम [गजल]

किताबे जिंदगी खोलूँ पलों में मुस्कराना तुम 
वो सूखे पुष्प सा बनकर सदा यादों में आना तुम |

तमस को जिंदगी से दूर कर के रोशनी बनना
सुबह की ओस बनकर अब सदा ही खिलखिलाना तुम |


जो जीना देर से सीखे, वो जीवन राग क्या जाने 
सभी लम्हे समेटे जिंदगी का राग गाना तुम |

कभी जो जीतना हो जीतना खुद को ही तुम लेकिन 
वफा के वास्ते खुद जीत करके हार जाना तुम |

*****

Thursday, February 19, 2015

मिट्टी के खिलौने


मन बच्चा है बहलाने को 
मिट्टी के खिलौने बनायें 
किसी के सिर पर रखकर चोटी 
किसी के माथे तिलक लगायें 
किसी के मुँह पर लगा के दाढ़ी
किसी को सुन्दर साड़ी पहनायें 
किसी के सिर पर रखकर टोपी 
किसी के सिर पगड़ी पहनायें 

काश मानव हो मिट्टी के खिलौने 

मौला, पंडित ,फादर ,भाई 
गूँथ इन्हें सबको मिलायें
मिली जुली इस मिट्टी से फिर
नए नए आकार बनायें 
दाढ़ी किसी की चोटी बन जाये 
चोटी में दाढ़ी छुपायें  
टोपी किसी की पगड़ी बन जाये 
पगड़ी में टोपी छुपायें 
किस्में कितना कौन छुपा है 
कौन बताये कौन बताये  
भेदभाव सारे मिट जायें 
आओ सच्चा मानव बनायें 
इंसानों में इंसानियत जगायें 
*****

Friday, February 6, 2015

जिंदगी है दोस्तों संभल के चला कीजिये

जिंदगी है दोस्तों संभल के चला कीजिये 
सफ़र है जिंदगी  
कई मोड़ होंगे 
हर मोड़ पर नया हादसा 
हादसों का सफ़र है 
या सफ़र में हादसे..
किसी ने अपने खोये
किसी ने अपनापन खोया 
किसी ने अपने को ही खो दिया 
जिंदगी है दोस्तों संभल के चला कीजिये 

मिलेंगे कई साथी साथ चलने को 
कोई एक मोड़ तक साथ देगा 
कोई एक शहर तक  
कोई हमसफ़र होगा सांसों के आने तक 
पर अंत तक साथ निभाएंगे तुम्हारे कर्म 
जिंदगी का सफ़र है संभल कर चला कीजिये 

वादा करेंगे बहुत साथ चलने का 
पर तोड़ेंगे वादे 
तुम्हे आजमायेंगे 
ठुकरायेंगे 
रुलायेंगे
अकेले ही अपना फैसला सुनायेंगे 
फिर आखिर तुम्हे छोड़ मँझदार में 
दूर भाग जायेंगे 
जिंदगी का सफ़र है संभल के चला कीजिये  
...............................................................
जिंदगी है एक अनसुलझी पहेली 

Tuesday, February 3, 2015

ब्रेक अप पार्टी

युवाओं में ब्रेक अप पार्टी का चलन देख कुछ ख्यालों ने दिल पर दस्तक दी आपकी नजर करती हूँ ...

आओ मिलें ऐ दोस्त ,बिछुड़ जाने के लिए 
फिर से याद करें वो यादें ,भूल जाने के लिए 
आओ मिलें एक बार 
लेकर यादों का वो पिटारा 
इक मेरा तुम इक तेरा मैं 
वापिस करें.. 
वो अनमोल लम्हे 
जो जिए हमने संग संग 
वो दुःख दर्द जो बाँटें हमने संग संग 
वो आँसू जिनसे भिगोया तकिया 
एक दूसरे की याद में 
वापिस करें  ...
जो तुझमें हूँ मैं कुछ कुछ 
और
जो मुझमें हो तुम कुछ कुछ 
वापिस करें ...
वो चिंता  
वो हमदर्दी
जो हमने एक दूसरे के लिए की 
वापिस करें ..
वो सन्देश जो हमने भेजे 
प्यार के 
प्रेरणा के
दोस्ती के  
वापिस करें ..
वो पल पल की कसक 
जिसने दी हमारे दिल पर दस्तक  
वापिस करें ...
वो वादे 
वो कसमें 
जिन्हें निभाया हमने बड़ी शिद्दत से 
भूल जायें 
वो 'गुज़ारिश' रूठने मनाने की 
वो 'अलविदा' ना कहकर 'फिर मिलेंगे' कहना 
आओ मिलकर ...
एक वादा करें खुद से ..
दोबारा ना मिलने का ,
यादों से दूर चले जाने का ...
और शुरू करें फिर से ये जिंदगी उस मोड़ से  
यहाँ हम तुम थे अजनबी ....
..........................................